Thursday, November 24, 2011

चिंतन........निरंतर का.......: सीखना

चिंतन........निरंतर का.......: सीखना: कहते हैं माँ के पेट से सीख कर कोई नहीं आता मनुष्य जो भी सीखता है , अनुभव से या दूसरों को देख कर या फिर दूसरों द्वारा सिखाया जाता है सीखना ज...

2 comments:

  1. आपने बहुत ख़ूबसूरत पंक्ति लिख कर दिया है टिप्पणी के माध्यम से जो मुझे बेहद पसंद आया !
    बहुत सुन्दर और सटीक लिखा है आपने !

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति है आपकी..। पढ़ना बहुत अच्छा लगा.।
    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईयेगा,। धन्यवाद ।

    ReplyDelete